90 percent murder-rape cases in lockdown, police now trying to stop fake news

90 percent murder-rape cases in lockdown, police now trying to stop fake news

अपराध रोकने की कोशिश कर रही है पुलिस (फाइल फोटो)


कोरोना वायरस के खौफ की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के कारण दिल्ली सहित 10 राज्यों की राजधानियों में हत्या-दुष्कर्म जैसे अपराधों की दर में 90 प्रतिशत तक की कमी आई है। सड़क पर होने वाले अपराध, सेंधमारी, वाहन चोरी जैसे हर अपराध घटे हैं। इसकी एक वजह सड़क पर तैनात भारी पुलिसबल है। इसके अलावा सड़क दुर्घटनाओं में भी 95 प्रतिशत तक की कमी आई है। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद से तीन अप्रैल तक इन दो हफ्तों में नए तरह के मामले दर्ज हुए हैं उनमें पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट, मास्क और सैनिटाइजर की जमाखोरी, लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करना, विदेश से आने की जानकारी छिपाना और फर्जी खबरें फैलाने वाले के खिलाफ की गई कार्रवाई शामिल है।





जयपुर में रोजाना औसतन 75 मामले दर्ज होते हैं लेकिन पिछले दो हफ्तों में केवल 132 मामले ही दर्ज हुए हैं। यहां रोजाना केवल 9.4 केस दर्ज किए गए हैं। जिसमें ज्यादातर लॉकडाउन का उल्लंघन करने से संबंधित हैं। अमूमन हर राज्य की राजधानी में इसी तरह की स्थिति बनी हुई है।

दिल्ली में सबसे ज्यादा वाहन चोरी के मामले दर्ज हुए हैं। इसपर दिल्ली पुलिस के एसीपी अनिल मित्तल का कहना है कि घर में चोरी और वाहन चोरी जैसे मामले ऑनलाइन दर्ज कराने की सुविधा है।

छत्तीसगढ़ में धारा 144 के उल्लंघन के अलावा विदेश से आने की जानकारी छिपाने, फर्जी न्यूज, गोपनीय जानकारी साझा करने और कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर किराएदार को घर से निकालने के मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं अहमदाबाद में ऐसा पहली बार हुआ है जब पुलिस ने निषेधाज्ञा उल्लंघन के मामले में 960 मामले दर्ज करके 2960 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
Mahesh Aggarwal, owner of Haldiram Bhujiawala, dies in Singapore

Mahesh Aggarwal, owner of Haldiram Bhujiawala, dies in Singapore



हल्दीराम भुजियावाला के मालिक महेश अग्रवाल का सिंगापुर में निधन हो गया है। वह 57 साल के थे। वह लिवर संबंधी बीमारी से पीड़ित थे और करीब तीन महीने से उनका इलाज चल रहा था।
जानकारी के मुताबिक महेश अग्रवाल का निधन शुक्रवार को ही हो गया था। सिंगापुर में ही उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनकी पत्नी और बच्चे इस वक्त सिंगापुर में हैं। दोनों ने भारतीय दूतावास में देश वापसी के लिए आवेदन किया है।

महेश अग्रवाल परिवार के साथ
महेश अग्रवाल परिवार के साथ - फोटो : ट्विटर

बता दें कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए सभी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। भारत सहित कई देशों में लॉकडाउन की वजह से लोग अपने घरों में मौजूद हैं। बाहर आने जाने पर पांबदी लगाई गई है। 
PM Modi speaks to BJP workers this is a long battle neither tired nor lost

PM Modi speaks to BJP workers this is a long battle neither tired nor lost

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सोमवर छह अप्रैल को अपना 40वां स्थापना दिवस मना रही है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कोरोना वायरस को लेकर कहा कि भारत दुनिया के उन देशों में से है जिसने कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा और इसके खिलाफ एक व्यापक जंग की शुरुआत की। ये लंबी लड़ाई है, न थकना है, न हारना है। लंबी लड़ाई के बाद भी जीतना है। विजयी होकर निकलना है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से पांच आग्रह किए जिसमें कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुटे डॉक्टर, नर्स, सफाई कर्मचारी आदि को धन्यवाद देना शामिल है। प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं से पीएम-केयर्स फंड में सहयोग करने का अनुरोध किया।  

नरेंद्र मोदी


कोरोना के खिलाफ लड़ाई लंबी है
प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि ये लंबी लड़ाई है, न थकना है, न हारना है। लंबी लड़ाई के बाद भी जीतना है। विजयी होकर निकलना है। आज देश का लक्ष्य एक है, मिशन एक है, और संकल्प एक है- कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में जीत। कल भी, रात को 9 बजे, हमने 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति के दर्शन किए हैं। हर वर्ग, हर आयु के लोग, अमीर गरीब, पढ़ा-लिखा हो, अनपढ़ हो, सभी ने मिलकर, एकजुटता की इस ताकत को नमन किया, कोरोना के खिलाफ लड़ाई का अपना संकल्प और मजबूत किया।

भारत ने दुनिया के सामने प्रस्तुत किया उदाहरण
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए भारत के अबतक के प्रयासों ने दुनिया के सामने एक अलग ही उदाहरण प्रस्तुत किया है। भारत दुनिया के उन देशों में से है जिसने कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा और इसके खिलाफ एक व्यापक जंग की शुरुआत की। भारत ने एक के बाद एक निर्णय किए। उन फैसलों को जमीन पर उतराने का भरसक प्रयास किया। हर स्तर पर एक के बाद एक प्रोएक्टिव होकर भारत ने कई फैसले लिए। राज्य सरकारों के सहयोग से इन फैसलों को गति भी मिली। भारत ने जिस तेजी और समग्रता से काम किया है। उसकी प्रसंशा सिर्फ भारत ने ही नहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी की है। सभी सरकारों को साथ लेकर आगे बढ़ने में काई कमी न रहे इसकी चिंता की।

जनता ने दिखाई परिपक्वता
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जैसा इतना बड़ा देश, 130 करोड़ लोगों का ये देश, लॉकडाउन के समय भारत की जनता ने जिस तरह की परिपक्वता दिखाई है, गांभीर्य दिखाया है, वो अभूतपूर्व है। कोई कल्पना नहीं कर सकता था कि इतने विशाल देश में, लोग इस तरह अनुशासन और सेवा भाव का पालन करेंगे। तमाम देश एकजुट होकर कोरोना का मुकाबला करें, इसके लिए सार्क देशों की विशेष बैठक हो या जी-20 देशों का विशेष सम्मेलन, भारत ने इन सारे आयोजनों में अहम भूमिका निभाई है।

प्रधानमंत्री ने लोगों से किए पंच आग्रह
प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं के सामने कुछ सुझाव रखते हुए कहा कि आप इन्हें मेरे पंच आग्रह मान सकते हैं। मेरा पहला आग्रह है, गरीबों को राशन के लिए अविरत सेवा अभियान। दूसरा आग्रह है कि अपने साथ ही आप 5-7 अन्य लोगों के लिए फेस-कवर बनवाएं और उनका वितरण करें। तीसरा आग्रह है, धन्यवाद अभियान के लिए। पार्टी ने पांच अलग-अलग वर्ग बनाए हैं। पहला वर्ग- नर्सेस और डॉक्टर्स हों, दूसरा वर्ग- सफाई कर्मचारी, तीसरा वर्ग– पुलिसकर्मी, चौथा वर्ग- बैंक और पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी, पांचवां वर्ग- आवश्यक सेवाओं में जुटे हुए सभी कर्मचारी। चौथा आग्रह है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को आरोग्य सेतु ऐप' की जानकारी दें और कम से कम 40 लोगों के मोबाइल में ये ऐप इंस्टॉल भी करवाएं। पांचवां आग्रह है कि पीएम-केयर्स फंड में प्रत्येक भाजपा कार्यकर्ता को खुद भी सहयोग करना है और 40 अन्य लोगों से भी इसमें सहयोग करने के लिए प्रेरित करना।